Author: badalataindia

0

मोदी सरकार से दो राष्ट्रीय पुरस्कार पाने वाला देश का पहला गांव

कोयल पचौरी: ग्राम प्रधान ने 5 साल से भी कम वक्त में कर दिया गांव का कायाकल्प देश के 10 सबसे पिछड़े जिलों में शुमार उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर में जहां आज भी कई...

0

क्या वाकई गांव, गरीब और किसान के लिए है बजट 2019

मोदी – 02 सरकार का बही खाता यानी बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने दावा किया कि बजट 2019 गांव, गरीब और किसान को ध्यान में रखकर बनाया गया है। ऐसे...

0

आध्यात्मिक लेखन से आईएएस अफसर को मिली अलग पहचान

भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे सुरेश कुमार सिंह ने आस्था आधारित रचनात्मकता को नए आयाम दिए। शाक्त चिंतन और लेखन ने उनकी जीवन-धारा बदली। अब तक सुरेश कुमार सिंह की 16 से भी...

1

आम चुनाव 2019 में क्या रही महिलाओं की स्थिति

आम चुनाव 2019 में देशभर से मतदाताओं ने 78 महिलाओं को चुनकर लोकसभा भेजा है। आजादी के बाद लोकसभा में महिलाओं की भागीदारी का ये अब तक का सबसे उच्चतम आंकड़ा है। साथ ही 9...

1

बचपन के फोटोग्राफी से लगाव ने IAS अफसर को बना दिया पर्यावरण संरक्षक

संध्या:  यूपी कैडर के 2002 बैच के IAS अफसर संजय कुमार एक बेहतरीन प्रशासक के साथ जबरदस्त पर्यावरण प्रेमी भी हैं। बतौर अफसर इनकी ख्याति पर्यावरण संरक्षण की दिशा में किए गए कामों के...

0

होती हैं सब मांए जैसी मेरी मां भी वैसी है

मदर्स डे पर विशेष मदर्स डे पर मां की ममता, मां की महिमा, मां की गरिमा बताती कवि संजीव जैन की कविता मां जंगल में उद्यानों में माँ तेरी चुनरी हरियाली है। खेतों में...

0

“बाल समिति” यानी राजधानी दिल्ली में बच्चों की हक की आवाज भी और मनोरंजन भी

बच्चों की समस्याओं को हल करने के लिए हमे उन्हें सिस्टम में शामिल करना होगा। उन्हें केवल ‘बच्चा है’ समझ कर छोड़ देने से काम नहीं चलेगा। यह कहकर कि इस शहर में तो...

0

राहुल गांधी के झूठ की पोल खोलती ‘बोफोर्स नहीं राफेल है’

पेशे से पत्रकार जितेंद्र चतुर्वेदी ने गहरे शोध के बाद ये किताब लिखी है। ये किताब कांग्रेस और राहुल गांधी के झूठ की पोल तो खोलती है। पत्रकारिता से समझौता कर कांग्रेस के पक्ष...

0

चालीस छंदों में महानायक कृष्ण का जीवन चरित्र है “कृष्ण”

रजनीश अग्रवाल “रज” मेरी लेखनी से प्रस्तुत कृति “कृष्ण” मेरा प्रथम संग्रह है। “प्रश्न” मेरा मुझसे कि मैं क्या लिखना चाहता हूँ? छंद और ताल का तालमेल बनाकर अपने विचारों की अभिव्यक्ति चाहता हूँ...

0

दिल्ली में मजदूरों के हक के लिए आगे आए विधिक सेवाएं प्राधिकरण के जज

दिल्ली राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण ने मजदूरों को उनके हक से परिचित कराने और हक दिलाने के लिए विशेष अभियान शुरू किया है

Skip to toolbar