Tagged: Badalata India

0

इस केमिस्ट्री टीचर से मिलिए, कोरोना में माता पिता को खो चुके अनाथ और गरीब बच्चों की मदद का लिया संकल्प

आकाश सिंह: कोरोना की वजह से अनाथ और आर्थिक रूप से कमजोर 2021 बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाने के लिए 14 साल की कमाई खर्च करने को तैयार बलिया की बागी धरती के...

4

संकट में धरती का भगवान

कोरोना की इस त्रासदी के समय जब विश्व में त्राहि- त्राहि मची है, ऐसे वक्त में भी डॉक्टर ने अपने कर्तव्य से मुंह नहीं मोड़ा है, चाहे गांव हो या शहर, सुविधाएं कम हो...

0

किसी तरह से कम नहीं कामकाजी गृहणियों की संघर्ष गाथा

पाश्चात्य प्रभाव से अधिक धन, सुख, मान मर्यादा व अन्य जरूरतों की चाह में हमारे समाज में महिलाएं गृहणी से कामकाजी हुईं। वक्त के साथ महिलाओं ने अपने को वाह्य कार्य करने के हिसाब...

0

माटी और मां कर्ज चुका रही झारखंड के संथाल परगना की बेटी

आकाश सिंह: झारखंड के संथाल परगना का जेरेड आर्ट। ये खूबसूरत, समृद्ध सांस्कृतिक पहचान वाली कला सिर्फ संथाल परगना तक ही सिमट कर रह गई। लेकिन अब संथाल परगना की एक बेटी डॉक्टर स्टेफी...

0

सिविल सेवा में सेलेक्शन के बाद भी छात्रों को सफलता का मंत्र बांट रहे पति-पत्नी

बदलता इंडिया: सिविल सर्विसेज सेवा में सफलता हासिल करने के दौरान मिले सबक को जरुरतमंद अभ्यर्थियों तक पहुंचाने की मुहिम में जुटा है एक दंपति। पत्नी डॉ. तनु जैन और पति वात्सल्य कुमार का...

2

प्रयागराज की झुग्गी बस्तियों में शिक्षा की रोशनी बिखेर रहा 26 साल का युवा

आकाश सिंह: तीर्थों का राजा कहे जाने वाले प्रयागराज में त्रिवेणी के पावन तट पर माघ महीने में स्नान और दान की सदियों से परंपरा रही है। पावन प्रयागराज की धरती पर इसी परंपरा...

0

एक खांटी भारतीय मन: कैलाश सत्‍यार्थी

कैलाश सत्यार्थी को नोबेल शांति पुरस्कार प्राप्ति की 6ठीं वर्षगांठ पर विशेष संध्या मिश्र: नोबेल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित कैलाश सत्‍यार्थी एक खांटी भारतीय हैं। उनका मन भारतीयता में रचता-बसता है। उनकी यह पहचान...

0

रेलवे के सिस्टम में सदा के लिए जुड़ा रेल अफसरों का बनाया सहायता का ‘सेतु’

अलोका: कोरोना काल में भारतीय रेल के कुछ अफसरों ने सहायता का ऐसा सेतु बना दिया जो अब रेलवे के सिस्टम में सदा के लिए जुड़ गया है। सहायता का ये सेतु कोराना काल...

0

बच्‍चों के “भाईसाहब” कैलाश सत्‍यार्थी

संध्या:  चार दशकों से बच्‍चे सत्‍यार्थी के सरोकार और उद्देश्‍य बने हुए हैं। उनके कर्तव्‍य और नैतिक बल भी बच्चे हैं। उन्‍होंने बच्‍चों के सपनों को अपने सपनों से जोड़ लिया है। और बच्‍चों...

0

आखिर क्या है जेएनयू में स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा के मायने

निखिल यादव//पुष्कर पांडेय:  आज जेएनयू के लिए ऐतिहासिक दिन है। आज इस विश्वविद्यालय में स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का अनावरण हो रहा है, जिनके अध्यात्म और राष्ट्रवाद ने भारत को दिशा दिखाई। युवाओं को...

Skip to toolbar